धनतेरस पर सोना नहीं ये खरीदने से मिलेगी समृद्धि

1687

धनतेरस पर सोना नहीं ये खरीदने से मिलेगी समृद्धि dhanteras par kya kharide

कार्तिक मास में त्रयोदशी तिथि का विशेष महत्व है। विशेषकर चिकित्सा एवं औषधि विज्ञान के लिए यह शुभ दिन माना गया है। अधिकांश आयुर्वेदिक औषधियाँ इस दिन निर्माण के उपरांत अभिमंत्रित की जाती है। मान्यता है..

कि भगवान धन्वंतरी अमृत कलश लेकर समुद्र मंथन से इसी दिन प्रकट हुए थे।

इस दिन सायंकाल यम को दीपदान किया जाता है। कहते हैं इससे यमराज के भय से छुटकारा मिलता है। गृहलक्ष्मी अगर दीपदान करें तो पूरे परिवार के रोग-शोक नष्ट होते हैं। व्यापारी वर्ग के लिए इस दिन बहीखाते खरीदने का महत्व है। इस दिन खरीदे बहीखाते गद्दी पर स्थापित किए जाते हैं और दीपावली पर पूजे जाते हैं। इस दिन तिजोरी में अक्षत..रखे जाते हैं। ऐसा करने से तिजोरी में कुबेर का वास होता है। लक्ष्मीजी के आह्वान का भी यही दिन होता है।

पौराणिक मान्यता है कि माँ लक्ष्मी को विष्णु जी का श्राप था कि उन्हें 13 वर्षों तक किसान के घर.के घर में रहना होगा। श्राप के दौरान किसान का घर धनसंपदा से भर गया। श्रापमुक्ति के उपरांत जब विष्णुजी लक्ष्मी को लेने आए तब किसान ने उन्हें रोकना चाहा। लक्ष्मीजी ने कहा कल त्रयोदशी है   तुम साफ सफाई करना, दीप जलाना और मेरा आह्वान करना। किसान ने ऐसा ही किया और लक्ष्मी की कृपा प्राप्त की । तब ही से लक्ष्मी पूजन की प्रथा चल पड़ी।

धनतेरस पर क्या खरीदें ?

इस धनतेरस की विशेष बात यह है कि इस दिन सोना नहीं खरीदें क्योंकि इस दिन सोना खरीदने से घर में चंचलता आ सकती है । बल्कि पुष्य नक्षत्र में खरीदा सोना इस दिन विधिवत पूजा जा सकता है । इससे घर में लक्ष्मी का शुभ स्थायी वास होता है।   इस दिन पीतल और चाँदी खरीदना चाहिए क्योंकि पीतल भगवान धन्वंतरी की धातु है। पीतल खरीदने से घर में आरोग्य, सौभाग्य और स्वास्थ्य की दृष्टि से शुभता आती है।  चाँदी कुबेर की धातु है। इस दिन चाँदी खरीदने से घर में यश, कीर्ति, ऐश्वर्य और संपदा में वृद्धि होती है।

धनतेरस पर ये खरीदने से मिलेगी समृद्धि

coriander
धनिया

साबुत धनिया धन का प्रतीक है। धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीद कर लाएं और दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजा के समय इसकी भी पूजा करें। दीपावली पूजन के बाद अगले दिन प्रातः साबुत धनिया को गमले में या बाग में बिखेर दें। माना जाता है कि साबुत धनिया से हरा-भरा स्वस्थ पौधा निकल आता है तो आर्थिक स्थिति उत्तम होती है।

 

हथाजोड़ी

हथाजोड़ी को लक्ष्मी जी का रूप माना जाता है. इसे घर में लाएं और लक्ष्मी माता के साथ इसकी भी पूजा करें। धन प्राप्ति के लिए यह शुभ माना जाता है।

laxmi-ganesha-500x500

गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति

गणेश लक्ष्मी की मूर्तियों को धनतेरस के दिन घर लाने से घर में धन संपत्ति का आगमन रहता है और पूरे सालभर घर में धन और अन्न की कमी नहीं होती।

 

बर्तन

शायद कुछ लोगों को पता नहीं होगा कि धनतेरस के दिन ही मां अन्नपूर्णा का भी दिन होता है इसीलिए इस बर्तन खरीदना बहुत अच्छा रहता है

गूंजा

धनतेरस के दिन घर में गूंजा लाएं क्योंकि इससे धनप्राप्ति के द्वार खुल जाते हैं। गूंजा के बीज धनतेरस के दिन लाकर घर में रख दें और लक्ष्मी पूजन के समय इन्हें भी पूजा में रखें।

shankh

शंख

शंख सुख समृद्धि और शांति का प्रतीक है। इस दिन शंख को घर लाएं और इसे दीवाली पूजन के समय बजाएं। नहीं बजा सकते हैं तो भी इसे स्थापित करें। इससे घर में लक्ष्मी का आगमन होगा और घर के अनिष्ट टल जाएंगे।

झाड़ू

दीपावली के मौके पर नई झाड़ू को घर में लाना अच्छा माना जाता है। इससे नकारात्मक ऊर्जा घर से बाहर जाएंगी और साफ सुथरे घर में लक्ष्मी का आगमन होगा। लेकिन कुछ दिन के लिए इस झाड़ू को बाहर के लोगों को नजरों से बचाकर रखें।

sfatik

 

स्फटिक का श्रीयंत्र

स्फटिक का श्रीयंत्र घर लाने से लक्ष्मी घर की ओर आकर्षित होती हैं।

 

चाँदी एवं पीतल खरीदने के मुहूर्त।
धनतेरस विशेष मुहूर्त
1. 12.02 से 12.40 दोपहर तक
2. 5.27 से 6.15 शाम तक (खरीददारी विशेष मुहूर्त)
3. 5.55 से 7.35 शाम तक (पूजन विशेष मुहूर्त)

Read  More

loading…


Comments

comments