आपके देखने का नजरिया क्या है || Heart Touching story in hindi

157
एंक गांव में सुबह एक यात्री आया उसने अपने घोडे को रोका , गांव के दरवाजे पर बैठे हुए एक बुढे आदमी से उसने पुछा- इस गांव के लोग कैंसे है ? मैं इस गांव में ठहरना चाहता हूं, इसी गांव में निवास करना चाहता हूं। उस बुढे आदमी ने कहा- मेरे मित्र पहले मैं  तुमसे यह पुछूंगा कि तुम जिस गांव को छोडकर आ रहे हो उस गांव के लोग कैंसे थे ?
उसने कहा उस गांव के लोगों का नाम भी न लें। उनका नाम लेते ही मेरे हृदय में आग की लपटें जलने लगती है और मेरा बस चले तो उनकी हत्या कर दूं।
उस गांव के लोग इतने बूरे है, जिसका कोई हिसाब नहीं। जमीन पर उतने बुरे लोग खोजना कठिन है। उस बुढे आदमी ने कहा- मित्र घोडे को आगे बडा लो, मैं पचास साल से इस गांव में रहता हूं, इस गांव के लोग उस गांव के लोगों से भी ज्यादा बूरे है।
तुम इस गांव के लोगों को, उस गांव के लोगों से भी बदतर पाओंगे। तुम आगे जाओं तुम दूसरा गांव खोज लो। यह तो बहुत बुरा गांव है। वह आदमी गया भी नही था कि एक बैलगाडी आकर रूकी और एक आदमी अपने परिवार को लिए उसमे आया और उस यात्री ने इस बुढें आदमी से भी पुछा –
मैं इस गांव में रहना चाहता हूं, इस गांव के लाग कैसे है ? उस बुढे ने कहा- पहले मुझे बता दो, तुम जिस गांव से आये हो उस गांव के लोग कैसे थे ? उसने कहा- उनका नाम भी हृदय को आनन्द से और कृतार्थता से भर देते है। बडे भले थे वे लोग उन्हें छोडना इससे आुंसु मेरे अब तक गिले है। लेकिन मजबूरी थी कि छोडकर आना पडा है। इस गांव के लोग कैंसे है ?

Comments

comments

LEAVE A REPLY