माँ बेटा और बहू | Heart Touching Story in hindi

45
माँ बेटा और बहू | Heart Touching Story in hindi
पत्नी बार बार मां पर इल्जाम लगाए जा रही थी और पति बार बार उसको अपनी हद में रहने की कह रहा था
लेकिन पत्नी चुप होने का नाम ही नही ले रही थी व् जोर जोर से चीख चीखकर कह रही थी कि “उसने अंगूठी टेबल पर ही रखी थी और तुम्हारे और मेरे अलावा इस कमरें मे कोई नही आया अंगूठी हो ना हो – मां जी ने ही उठाई है।। बात जब पति की बर्दाश्त के बाहर हो गई तो उसने पत्नी के गाल पर एक जोरदार तमाचा दे मारा
अभी तीन महीने पहले ही तो शादी हुई थी ।पत्नी से तमाचा सहन नही हुआ
वह घर छोड़कर जाने लगी और जाते जाते पति से एक सवाल पूछा कि तुमको अपनी मां पर इतना विश्वास क्यूं है..??तब पति ने जो जवाब दिया उस जवाब को सुनकर दरवाजे के पीछे खड़ी मां ने सुना तो उसका मन भर आया …..पति ने पत्नी को बताया कि “जब वह छोटा था तब उसके पिताजी गुजर गए,  मां मोहल्ले के घरों मे झाडू पोछा लगाकर जो कमा पाती थी …उससे एक वक्त का खाना आता था
मां एक थाली में मुझे परोसा देती थी और खाली डिब्बे को ढककर रख देती थी और कहती थी मेरी रोटियां इस डिब्बे में है , बेटा तू खा ले
मैं भी हमेशा आधी रोटी खाकर कह देता था कि मां मेरा पेट भर गया है , मुझे और नही खाना है
मां ने मुझे मेरी झूठी आधी रोटी खाकर मुझे पाला पोसा और बड़ा किया है

Comments

comments

LEAVE A REPLY