जानिया क्या है ? आपका भाग्यशाली रत्न

3412

जानिया क्या है ? आपका भाग्यशाली रत्न 

मेष व वृश्चिक राशि :- मेष व वृश्चिक राशि वालों को मूँगा पहनना लाभदायक होता है । लेकिन यदि जन्म के समय मंगल की स्थिति ठीक न हो तब मूँगा नहीं पहनना चाहिए। अन्यथा मूँगा पहनने से आपको नुकसान भी हो सकता है । मूंगा साहस, पराक्रम, ऊर्जा, उत्साह, पुलिस, सेना प्रशासनिक क्षेत्र, आदि में लाभकारी होता है।

मेष और वृश्चिक राशि वालो को कम से कम 6 रत्ती के मूँगे को सोने की अँगूठी में लगवाकर शुक्ल पक्ष के मंगलवार के दिन सूर्योदय से एक घंटे के भीतर “ऊँ भौं भौमाय नमः” की एक माला जपकर धारण करना चाहिए।

राशि के अनुसार भाग्यशाली रत्न धारण करें

rashi-logo वृषभ व तुला राशि :- वृषभ व तुला राशि वालों को हीरा या ओपल रत्न को धारण करना चाहिए । लेकिन यदि जन्मपत्रिका में शुक्र शुभ हो तभी इसे धारण करें । हीरा या ओपल रत्नों को पहनने से कला, संगीत, सौन्दर्य प्रसाधन के कार्यों में उन्नति, प्रेम में सफलता, की प्राप्ति होती है । जातक का यश सभी दिशाओं में फैलता है ।

हीरा धारण करने से स्वास्थ्य, साहस वा समझदारी बढ़ती है। पुरुषों में वीर्य दोष मिटाता है। विवाह में अड़चने दूर होती है। अग्नि व चोरी का डर दूर होता है। लेकिन यह भी कहा जाता है कि पुत्र की कामना रखने वाली महिला को हीरा नहीं पहनना चाहिए अतः वे महिलाएं जो पुत्र संतान चाहती हैं या जिनकी संतान पुत्र है उन्हें ज्योतिष सलाह एवं परीक्षण के बाद ही हीरा धारण करना चाहिए ।

वृषभ व तुला राशि वालो को कम से कम 2 रत्ती के हीरे को सोने या प्लेटिनम की अँगूठी में लगवाकर शुक्रवार के दिन सुबह “ऊँ शुं शुक्राय नमः” मन्त्र की एक माला का जाप करके 10 से 12 बजे के बीच में दाहिने हाथ की मध्यमा उंगली यानी मिडिल फिंगर अथवा अनामिका उँगली यानी रिंग फिंगर में पहनना चाहिए।

rashi-logo मिथुन व कन्या :- मिथुन व कन्या राशि वालो को पन्ना को को धारण करना चाहिए। लेकिन ध्यान रखें कि कुंडली में बुध ख़राब ना हो । पन्ना धारण करने से व्यापार, एक्सपोर्ट के कार्यों, पत्रकारिता में, प्रकाशन में, सेल्स के कार्य में शीघ्र ही उल्लेखनीय सफलता प्राप्त होती है ।

पन्ना पहनने से निर्धनता दूर होती है परीक्षाओं में सफलता मिलती है। इसके धारण करने से गले सम्बन्धी रोग दूर रहते है एकाग्रता विकसित होती है।

मिथुन व कन्या राशि वालो को कम से कम 3 रत्ती के पन्ने को चाँदी , सोने या प्लेटिनम की अँगूठी में बनवाकर बुधवार के दिन सुबह ऊँ बुं बुधाय नमः मन्त्र का जाप करते हुए 10 से 12 बजे के बीच में दाहिने हाथ की सबसे छोटी उंगली यानी कनिष्का उँगली में पहनना चाहिए।

rashi-logo सिंह राशि :- सिंह राशि वालों को माणिक धारण करना चाहिए । माणिक उनका तेज बढ़ाकर उन्हें ऊर्जावान बनाता है लेकिन यदि जन्मपत्रिका में सूर्य शुभ हो तभी इसे धारण करें । यदि सिंह राशि वाले माणिक धारण करें तो उन्हें राजनीति, प्रशासनिक क्षेत्र, उच्च नौकरी के क्षेत्र में सफलता का कारक होता है।

सिंह राशि वालो को कम से कम 3 रत्ती के माणिक्य को सोने की अँगूठी में बनवाकर रविवार के दिन सुबह “ऊँ घृणि सूर्याय नमः” मन्त्र का जाप करते हुए सूर्योदय से एक घंटे के भीतर दाहिने हाथ की अनामिका उंगली यानी रिंग फिंगर में पहनना चाहिए।

सिंह राशि के जातक यदि मूंगा भी धारण करें तो अत्यंत लाभदायक सिद्द होता है। क्योंकि सिंह राशि के जातको के लिए मूंगा राजयोग कारक रत्न माना जाता है।राशि के अनुसार भाग्यशाली रत्न धारण करें

 

rashi-logo कर्क राशि :- कर्क राशि वालों को मोती धारण करने से बहुत लाभ मिलता है । लेकिन यदि चन्द्रमा शुभ हो तभी मोती धारण करने से लाभ है । मोती कर्क राशि वालो को मन की शांति और धैर्य देता है, इससे स्मरण शक्ति प्रखर होती है। बल, बुद्धि व विद्या बढ़ती है , विवाह में अड़चने दूर होती है ।कर्क राशि वालो को मोती धारण करने से मिठाई, दूध, दही-छाछ, रेस्टोरेन्ट, चाँदी के व्यवसाय, स्टेशनरी में उत्तम लाभ प्राप्त होता है। कर्क राशि वाले यदि मूंगा भी धारण करें तो अत्यंत उत्तम होता है क्योंकि मूंगा कर्क राशि वाले जातको का राजयोग कारक रत्न होता है।

कर्क राशि वालो को कम से कम 4 रत्ती के मोती को चाँदी की अँगूठी में बनवाकर सोमवार के दिन “ऊँ सों सोमाय नमः” मन्त्र का जाप करते हुए दाहिने हाथ की अनामिका उंगली यानी रिंग फिंगर अथवा कनिष्का ऊँगली अर्थात सबसे छोटी में पहनना चाहिए।

rashi-logo मकर और कुंभ :- मकर और कुंभ राशि वाले जातक नीलम रत्न धारण कर सकते हैं, लेकिन इन्हे नीलम धारण करने से पहले सावधानी बरतनी चाहिए । यदि जन्म कुंडली में शनि अच्छा नहीं है तो इन्हे नीलम को धारण नहीं करना चाहिए । नीलम रत्न के बारे में कहा जाता है कि यदि यह रत्न शुभ हो गया तो यह रंक को भी राजा बना सकता है , लेकिन अशुभ होने पर करोड़पति को भी खाक में मिला देता है ।

मकर और कुम्भ राशि वालो को कम से कम 4 रत्ती के नीलम को पंचधातु की अँगूठी में बनवाकर शनिवार के दिन : “ऊँ शं शनैश्चराये नमः ” मन्त्र का जाप करते हुए दाहिने हाथ की मध्यमा ऊँगली अर्थात सबसे बीच की उँगली में पहनना चाहिए।

नीलम धारण करने से जातक को धन, सुख समृद्धि, सफलता और प्रसिद्धि मिलती है। मन में अच्छे शुभ विचार आते है। संतान योग्य होती है सन्तान का सुख मिलता है।

rashi-logo धनु व मीन राशि :- धनु व मीन राशि के लिए पुखराज या सुनहला पहनना बहुत लाभदायक होता है। लेकिन यह देख ले कि कुंडली में बृहस्पति अशुभ फल ना दे रहे हो । पुखराज धारण करने से धर्म, बल, बुद्धि, ज्ञान एवं मान-सम्मान में वृद्धि होती है। पुत्र संतान योग्य और आज्ञाकारी होती है । यह राजनिति , न्यायायिक और प्रशासनिक क्षेत्र, अभिनय आदि में शीघ्र सफलता दिलाता है ।

धनु और मीन राशि वालो को कम से कम 5 रत्ती के पुखराज को सोने की अँगूठी में बनवाकर गुरुवार के दिन सुबह : “ऊँ बृं बृहस्पतये नमः” मन्त्र का जाप करते हुए दाहिने हाथ की तर्जनी ऊँगली अर्थात अँगूठे के बगल वाली उँगली में पहनना चाहिए।

Comments

comments

LEAVE A REPLY