नवग्रह शांति के उपाय

2526

नवग्रह शांति के उपाय (Navgrah Shanti ke Upay)

Navgrah dosh nivaran in Hindi : प्रत्येक गृह कुंडली में अपनी स्तिथि के अनुसार शुभ और अशुभ दोनों प्रभाव देतें है। यदि कोई गृह कुंडली में अपनी स्तिथि के कारण किसी जातक को अशुभ फल दे रहा तो, जातक को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।  नवग्रहों के इन अशुभ प्रभाव से बचने के लिए लाल किताब में अनेकों उपाय बताए गए है, जातक अपनी सहूलियत के हिसाब से इनमे से एक या कई उपायो नको अपना कर नव ग्रहों के अशुभ प्रभाव से बच सकता है।  आइए जानते है क्या है लाल किताब के ये उपाय –

 

लालकिताब के अनुसार सूर्य की शांति के उपाय –

1. रविवार का व्रत करे।

2. बहते पानी में गुड, ताम्बा या ताम्बे का सिक्का बहाए।

3. हरीपूजन या हरीवंश पुराण का पाठ करे।

4. विष्णु की नियमित उपासना करे।

5. ताम्बा व गेहू का दान करे।

6. माणिक्य अथवा ताम्बा धारण करे।

7. कुकर्म और गलत काम से बचे।

8. घर का मुख्य द्वार पूर्व दिशा में रखे।

9. प्रत्येक काम मीठा खाकर और पानी पीकर करे।

10. नमक का उपयोग कम से कम करे।

11. सूर्योदय से पूर्व उठे।

लालकिताब के अनुसार चन्द्रमा की शांति के उपाय –

1. माँ के चरण स्पर्श कर के आशीर्वाद ले।

2. दूध या पानी भरा बर्तन सिरहाने रख कर सोये और अगले दिन कीकर की जड़ में सारा जल डाल दे।

3. शिव की उपासना करे।

4. सोमवार का व्रत रखे।

5. चावल, दूध  और चांदी का दान करे।

6. मोती या चांदी धारण करे।

7. पूर्णिमा को गंगा स्नान करे।

लालकिताब के अनुसार मंगल की शांति के उपाय –

1. सफ़ेद सुरमा आँखों में लगाए।

2. ताम्बा अथवा मूंगा धारण करे।

3. तंदूर में लगी मीठी रोटी बांटे।

4. बहते पानी में रेवडिया, बताशे, शहद व सिंदूर बहाए।

5. गायत्री मंत्र का जाप करे।

6. मसूर, मिठाई या मीठे भोजन का दान करे।

7. भाई की सेवा करे।

8. मंगलवार का व्रत रखे व हनुमानजी को सिंदूर का चोला चढ़ाये।

लालकिताब के अनुसार बुध की शांति के उपाय –

1. बुधवार का व्रत करे।

2. बकरी या तोते को पाले या सेवा करे।

3. कन्याओं को हरे वस्त्र और हरी चुडिया दान करे।

4. पन्ना धारण करे।

5. दांत साफ़ रखे और नाक छिदवाये।

6. ताम्बे के पत्तर में छेद करके बहते पानी में बहाए।

7. दुर्गा उपासना व दुर्गा सप्तसती का पाठ करे।

8. साबुत हरे मुंग का दान करे।

लालकिताब के अनुसार गुरु की शांति के उपाय –

1. गुरूवार का व्रत रखे।

2. माथे पर पिला तिलक या केसर का तिलक लगाए।

3. केसर खाए या नाभि व जीभ पर लगाए।

4. हरीपूजन या हरिवंश पुराण का पाठ करे।

5. ब्रह्मा की उपासना भी लाभदायी हे।

6. पीपल की जड़ में जल चढ़ाये।

7. साधू व ब्राह्मणों की सेवा करे व् उनका आशीर्वाद ले।

8. पुखराज धारण करे।

9. चने की दाल व स्वर्ण का दान करे।

लालकिताब के अनुसार शुक्र की शांति के उपाय –

1. शुक्रवार का व्रत रखे।

2. अपने भोजन में से गाय को कुछ भाग दे।

3. हीरा धारण करे।

4. गौ दान करे या ज्वार व चरी का दान करे।

5. लक्ष्मी की उपासना करे।

6. घी,कर्पुर,दही का दान करे।

7. सुघंधित पदार्थो का प्रयोग करे।

लालकिताब के अनुसार शनि की शांति के उपाय –

1. शनिवार का व्रत रखे।

2. कीकर की दातुन करे।

3. तैतालिस दिन तक कौवो को रोटी डाले।

4. शनिवार को तेल में छाया देखकर तेल दान करे।

5. भैरव की उपासना करे।

6.  सांप को दूध पिलाए।

7.  तेल पेड़ो की जड़ो में डाले।

8.  तेल से चुपड़ी रोटी कुत्ते या कौवो को खिलाये।

9.  नीलम धारण करे।

10. जोड़ लगा हुआ लोहे का छल्ला धारण करे।

लालकिताब के अनुसार राहू की शांति के उपाय –

1. संयुक्त परिवार में रहे।

2. ससुराल से सम्बन्ध न बिगाड़े।

3. सर पर चोटी रखे।

4. केतु का उपाय करे।

5. जौ को दूध से धोकर बहते पानी में बहाए।

6. मुली का दान करे या कोयला बहते पानी में बहाए।

7. सरस्वती की उपासना करे।

8. सरसों का दान करे।

9. गोमेद धारण करे।

10.  जेब में चांदी की ठोस गोली रखे।

लालकिताब के अनुसार केतू की शांति के उपाय –

1. गणेश चतुर्थी का व्रत रखे।

2. गणेश उपासना करे।

3. कान छिदवाये और कुत्ता पाले।

4. राहू का उपाय करे।

5. कुत्ते को रोटी डाले।

6. काले और सफ़ेद तिल बहते पानी में बहाए।

7. कपिला गाय का दान करे।

8. तिल.निम्बू और केले का दान करे।

Comments

comments

LEAVE A REPLY