Scorpion (Bichu) Sting Treatment – बिच्छू के डंक क इलाज

1420

बिच्छू के डंक क इलाज

दुनियॉं में बिच्छू के करीबन एक हजार प्रजातियॉं है। इसमें सिर्फ भारत में ८६ प्रजातियॉं है। बिच्छू का विष सांप के विष से ज़्यादा ज़हरीला होता है। परन्तु बिच्छू के काटने से बहुत थोड़ा सा ही ज़हर अंदर जाता है। काले बिच्छू के ज़हर खासकर तंत्रिका तंत्र और दिल पर असर डालता है। लाल बिच्छू ज़्यादा ज़हरीले और जानलेवा होते हैं। भारत में लगभग सभी प्रांतों में लाल बिच्छू पाये जाते है लेकिन काले बिच्छू केरल में ज्यादा पाये जाते है।

एप्रिल से जून तक याने गरमी के मौसम में बिच्छू ज्यादा होते है, क्योंकी वह अपने छिपनेकी जगहसे बाहर आतेहै। छत से नीचे भी गिरते है। गर्मी में उनका जहर ज्यादा घातक होता है। खेतो में खलियानों में कच्चे पर या झोपडी में इनका ज्यादा प्रचलन है।

काले बिच्छू डंक के लक्षण

बिच्छू के काटने से सबसे पहले उस जगह पर बहुत तेज़ दर्द होता है। दर्द कुछ घंटों तक चलता है। पसीना भी आ सकता है। दर्द बहुत ही ज़ोर का होता है। बार बार बिच्छू के काटने से उस व्यक्तीमें प्रतिरक्षा पैदा हो जाती है। इस कारण से बाद वाली बार में दर्द कम होता है।

 

बिच्छू  के डंक का इलाज

पोदीना (mint)

Pudina

जब किसी व्यक्ति को बिच्छु काट ले तो उसे उस जगह पर mint का paste बना कर लगाना चाहिए या फिर पोदीने के रस को निकाल कर पीना चाहिए इससे बिच्छू का विष उतर जाता है ।

 

 मुली (Radish)

 

मुली का paste बना कर उसमे हल्का सा salt को mix कर के बिच्छू द्वारा काटे गए जगह पर लगाने से और मरीज को मुली खिलाने से जहर का असर कम हो जाता है ।

Garlic (लहसुन)

एक garlic को छिल कर उसका रस निकाल कर उसे 3 spoon honey में mix कर के खाने से बिच्छू के जहर का असर कम हो जाता है । इसके अलावा ½ spoon salt और 6 लहसुन की कली को एक साथ grind कर के इसके लेप को बिच्छू दवारा काटे गये जगह पर लगाने से  बिच्छु का विष ख़त्म हो जाता है ।

तुलसी (basil)

तुलसी के पत्ते को grind कर के उसमे नमक को mix कर लें और फिर उस लेप को बिच्छू द्वारा काटे हुए जगह पर लगाएं। इससे जहर का effect कम हो जाता है ।

Comments

comments