शुभ-अशुभ शकुन विचार भाग दो

2968

शुभ-अशुभ शकुन विचार भाग दो Shakun vichar

 

1. यदि घर में किसी देवता की मूर्ति अथवा चित्र टूट जाए, फट जाये तो आकस्मात ही कष्टों का सामना करना पड़ सकता है इसके निवारण के लिए हनुमान मंदिर में जाकर प्रसाद चड़ाएं, अपनी जाने अनजाने में की गयी भूलों, पापों के लिए क्षमा मांगे, माँ दुर्गा की आराधना करें।

2. यदि कहीं से भी आपके कानों में कुत्ते अथवा सियार के रोने की आवाज लगातार आती है तो रिश्तेदार, पड़ोसी या आपके मोहल्ले में किसी की मृत्यु अथवा मृत्यु तुल्य कष्ट की संभावना बनती है। इसके निवारण के लिए किसी भी शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग पर ग्यारह बादाम और कच्चा दूध चड़ाएं, महा म्रतुन्जय का जाप करें और भगवान भोले नाथ से कृपा बनाये रखने के लिए प्रार्थना करें।

यात्रा पर जाते समय अशुभ शकुन

3. यदि किसी कार्य पर जाते समय रास्ते में कोई दुष्ट प्रकृति वाला, व्यभिचारी व्यक्ति सामने आ जाए तो कार्य में अवश्य ही विघ्न होने की सम्भावना होती है।

4. यात्रा पर जाते समय यदि पावँ से जूता निकल कर गिर जाये तो यह अशुभ शकुन है।

5. यात्रा पर जाते समय यदि घर से निकलते ही आपको कहीं पर ठोकर लग जाये तो यात्रा कुछ समय के लिए टालना ही उचित है।

6. यदि घर से निकलते ही आपका वस्त्र किसी कोने में फँस जाये अथवा अटक जाये तो यह भी शुभ नहीं है।

7. यदि घर से निकलते ही कोई छींक दे तो यह आपके लिए एक संकेत है कि कुछ पल ठहर जाएँ।

8. यात्रा पर जाते समय यदि काली बिल्ली रास्ता काट दे तो समझ जाईये कि यात्रा में सफलता की सम्भावना क्षीण ही है।

9.यात्रा पर जाते समय यदि कोई आपको टोक दें,आवाज लगा दें,कहाँ और किस लिए जा रहे है यह सवाल पूछ लें तो यह अशुभ शकुन है।

10.घर से निकलते ही आपसे या परिवार के सदस्यों में आपस में झगड़ा हो जाए तो ऐसे माहोल में उस समय यात्रा करना उचित नहीं है।

11.याद रखिये सूर्य अस्त होते समय, संध्या के समय यात्रा करना अशुभ माना गया है, अत: अपनी यात्रा का समय अवश्य ही संशोधित कर लें।

12.यदि घर से निकलते समय वर्षा या आंधी आ जाये, बिजली चली जाये, जानवर के रोने की आवाज आये तो कुछ पल ठहर कर ही अपनी यात्रा प्रारंभ करें।

13.यदि घर से निकलते ही कोई फल हाथ से गिर जाये, कोई सामान गिर जाये, टूट जाये तो यात्रा के लिए जल्दीबाजी कतई न करें।

14.यदि घर से निकलते समय किसी को भी चोट लग जाये, खून टपक जाये तो थोड़ा आगे विश्राम करके ही जाएँ।

15.यदि यात्रा पर जाते समय बहुत से पशु एक साथ एक जगह पर इकट्ठे नज़र आयें, या जानवर लड़ रहे हो तो यह भी अशुभ शकुन है।

हमेशा याद रहिये यात्रा पर जाते समय, घर से काम के लिए निकलते समय बहुत जल्दीबाजी, हड़बड़ी नहीं होनी चाहिए। जीवन भर शुभ अशुभ शकुन तो आते ही रहेंगे ।
इनसे कतई भी विचलित न हो। घर से दही चीनी अथवा कुछ मीठा खा कर ही माता पिता के चरण छू कर पत्नी बच्चो और परिवार के सदस्यों से मिल कर ही जाएँ । हमेशा समय का ख्याल रखें, समय से पूर्व ही जाने के लिए तैयार हो जाएँ और यदि इनमें से किसी भी तरह का अपशकुन आता भी है तो कुछ पल ठहर कर अपनी माता या पत्नी या बहन के हाथों से फिर से कुछ मीठा खा लें, प्रभु का स्मरण कर लें और अगर कुछ पल का समय हो तो अपना जूता पावँ से निकाल कर बैठ जाएँ उसके पश्चात ही यात्रा पर जाएँ ……..आपकी यात्रा अवश्य ही शुभ होगी।

शुभ-अशुभ शकुन विचार भाग  एक !

Comments

comments