सुख, शांति और सम्रद्धि के अचूक टोटके

1740

घर में सुख, शांति तथा सम्रद्धि के लिए करें ये आसान उपाय

भारतीय समाज की मान्यताओं के अनुसार घर को मंदिर के समान पवित्र माना जाता है. घर के वातावरण का हमारे दैनिक जीवन पर असर जरूर पड़ता है. साफ़ सुथरा तथा खुशियो से भरा घर किसे अच्छा नहीं लगता. सुख और शांति ऐसी वस्तु है जिनको प्रत्येक मनुष्य प्राप्त करना चाहता है. मगर किन्ही कारणों की वजह से अनेक घरों में द्वेष तथा अशांति होने लगती है. घर साफ सुथरा रखने के साथ घर की सुंदरता को बढ़ाने के लिए घर में पेंटिग, नक्काशी और कई चीजों को इस्तेमाल किया जाता है. आमतौर पर सुख सम्रद्धि से भरा हुआ घर बनाने के लिए शांति तथा पैसा दोनों की ही जरुरत पड़ती है परन्तु किसी के पास पैसा है तो शांति और सुख नहीं है. किसी के पास सुख शांति है तो पैसा नहीं है प्रत्येक व्यक्ति किसी ना किसी समस्या से परेशान है. इसीलिये हमें कुछ ऐसे उपाय करने चाहिए जिनके प्रयोग में लाने से जीवन में आपको कभी धन और सुख समृद्धि की कमी ना हों और घर में हमेशा शांति का माहौल बना रहें.
  • रात को सोने से पहले एक बाल्टी पानी भरकर रसोईघर में रख दें. इससे कर्ज से मुक्ति है साथ ही बाथरूम में पानी की भरी बाल्टी रखने से उन्नति के मार्ग में बाधा नहीं आती है.
  • रोजाना सुबह को कुछ देर के लिए घर में भजन अवश्य लगाए. इससे मन को शांति मिलती है साथ ही सुखो की वृद्धि भी होती है.
  • यदि आप घर की दिवार में घड़ी लगाते हैं तो घर में घड़ी पूर्व-उत्तर दिशा में लगाएं. घड़ी पूर्व-उत्तर दिशा में लगाने से समय अच्छा बीतता है.
  • भोजन कक्ष को हमेशा उत्तर पश्चिम में बनाएं इससे स्वास्थ्य ठीक रहता है तथा किसी प्रकार की बीमारी नहीं होती.
  • घर में बैठक का कमरा उत्तर पूर्व या उत्तर पश्चिम दिशा में बनना चाहिए. इससे सुख और समृद्धि में बढ़ोत्तरी होती है.
  • जब भी आप घर बनाये तो घर में टॉयलेट और स्नानघर को दक्षिण पश्चिम की ओर ही बनाएं. ऐसा करने से अतयन्त लाभ मिलता है. घर के चारों कोनें सुरक्षित रखें. पूर्व व दक्षिण की दिशा में टॉयलेट बनवा सकते हैं. यह दिशा टॉयलेट बनाने के लिए सही है.
  • पूजा पाठ का स्थान हमेशा ईशानकोण यानि उत्तर और पूर्व का कोना जहां मिलता है में ही बनाना चाहिए. इससे मान-सामान में बढ़ोत्तरी होती है.
  • घर को हमेशा स्वच्छ रखें तथा घर में कभी जाले ना लगने दें. इससे घर में अशांति होती है तथा घर में बाधा आती है.
  • रोजाना रोटी बनाने के बाद सबसे पहले 1 रोटी गाय के लिए रखें. इससे देवता भी खुश होते हैं और पितरों को भी शांति मिलती है.
  • अपनी तिजोरी को हमेशा पूर्व उत्तर व दक्षिण में ही रखें. इससे तिजोरी भरी रहती है तथा पैसे की कमी नहीं होती.
  • जब भी आप घर में पोछा लगाते हैं तो हफ्ते में एक बार समुद्री नमक अथवा सेंधा नमक से लगाए. इससे नकारात्मक ऊर्जा हटने लगती है.
  • घर को साफ रखें तथा हमेशा घर में झाड़ू पोछा लगाए. रोजाना झाड़ू पोछा करने से घर में सुख सम्रद्धि बढ़ती है.
  • रात को खाना खाने के बाद जूठे बर्तन ना रखें. इससे घर सुख सम्रद्धि तथा बरकत नहीं आती है. हमेशा बर्तनों को साफ करके ही रखें.
  • जब भी आप सुबह की पूजा करे तो यह पूजा 6 से 8 बजे के बीच में ही करे तथा भूमि पर आसन बिछा कर पूर्व या उत्तर की ओर मुंह करके पूजा करे. इससे घर में सुख तथा शांति बनी रहती है.
  • घर में तुलसी का पौधा लगाए तथा जिस गमले में तुलसी का पौधा हो उसमे कोई दूर पौधा ना लगाए. तुलसो को हमेशा घर के पूर्व या उत्तर दिशा में ही लगाए.
  • रात को सोते समय हमेशा दक्षिण या पूर्व दिशा की ओर सिर कर के सोएं. पूर्व की ओर सिर करने से विद्या की प्राप्ति होती है तथा दक्षिण की ओर सिर करके सोने से आयु तथा धन में बढ़ोतरी होती है.
  • घर में जूते चप्पलो को सम्भालकर रखें. इधर-उधर बिखेर कर या उल्टे सीधे करके नहीं रखने चाहिए. इससे घर में अशांति होने लगती है.
  • घर के मुख्य दरवाजे के पास कभी भी कूड़ेदान नहीं रखना चाहिए. ऐसा करने से पडोसी शत्रु बन सकते हैं.
  • सूर्यास्त होते समय यदि कोई दूध,दही या प्याज मांगे तो उसे ये सब वस्तुएं ना दें. इससे घर की बरकत समाप्त हो जाती है.
  • झाड़ू को घर में कभी भी खड़ा कर के ना रखें. ना ही झाड़ू में पैर लगाए तथा झाड़ू के ऊपर से ना गुजरे. ऐसा करने से घर की बरकत नहीं होती.
  • कभी भी बिस्तर पर बैठ कर कभी खाना नहीं खाना चाहिए. बिस्तर पर खाना खाने से धन की हानि होने की सम्भावना रहती है तथा घर में अशांति होने लगती है.
  • माह में एक बार पुरे घर में गौ मूत्र या फिर गंगाजल छिड़के. इससे घर सुद्ध होता है साथ ही यदि किसी बुरी शक्ति की वजह से घर में चल रही लड़ाई खत्म हो जाती है.
  • सुबह उठने के बाद अपने घर की खिड़की तथा दरवाजों को खोल दें. जिससे घर के पूजा वाले स्थान में सूरज की पहली किरणे आ सकें. ऐसा करने से घर में सुख-शांति तथा सम्रद्धि होती है.
  • नहाने के बाद जिस तोलिये का उपयोग किया हो उसका उपयोग दुबारा नहीं करना चाहिए. या फिर पहले दिन उपयोग में लाया गया तौलिया जो धोया ना हो उसका भी उपयोग ना करें. इससे संतान हठी व परिवार से अलग होने लगती है. इसलिए हमेशा तोलिये को धो कर ही प्रयोग में लाये.

Comments

comments