यंत्र – रहस्यमय शक्तियों का भंडार होता है

600

यंत्र – रहस्यमय शक्तियों का भंडार होता है

Benefits of Yantra

यंत्र शब्द ‘यम’ धातु से बना है। यंत्र रहस्यमय शक्तियों का भंडार होता है। देवी भागवत में कहा गया है कि वांछित प्रतिमा के अभाव में यंत्र को इष्टदेव की तरह पूजना चाहिए। शास्त्रकारों का कहना है कि यंत्र के पूजा किए बिना देवता प्रसन्न नहीं होते। यंत्र मंत्र रूप है। यंत्र देवताओं का विग्रह है। जिस प्रकार शरीर और आत्मा में कोई भेद नहीं होता। उसी प्रकार यंत्र और देवता में भी कोई भेद नहीं होता।

यंत्र सब सिद्धियों का द्वार है और देवताओं का आवास ग्रह है जिसमें अपने स्थान, दिशा, मंडल कोण आदि के अधिपति व्यवस्थित रूप से आहवाहित होकर विराजते हैं। यंत्र, मंत्र का रचनात्मक शरीर है जिसमें अनुष्ठेय कर्मकांड की संपूर्ण प्रक्रिया सूक्ष्म रूप से ठीक उसी प्रकार से छिपी होती है जिस प्रकार से नक्शे में भवन व बीज में वृक्ष छिपा रहता है।

कुछ ऐसे यंत्र भी होते हैं जिसके दर्शन मात्र से व्यक्ति अभीष्ट मनोरथ को पा लेता है। श्री यंत्र, गायत्री यंत्र, स्वर्णकर्षक और भैरव यंत्र ऐसे ही यंत्रों की श्रेणी में आता है। संक्षेप में यही कहा जा सकता है कि मंत्र की तरह यंत्र में भी अनंत शक्तियों का भंडार होता है।

 

Comments

comments